Type Here to Get Search Results !

ख़ूबसूरत किस्मत का खेल कोई पास कोई फ़ैल

राज Newyork में अपने आखरी दिन भी लेट गाया था और फ्लाइट पकड़ने के लिए उसकी हर मुमकिन कोशिश जारी थी उसने एक बंद गला leather जैकेट पहना हुवा था |और गले में हवा से मेल मिलाता हुवा एक सफ़ेद स्कार्फ लहरा रहा था | वह उसके काले और चमकदार बालों के साथ तालमेल बैठा रहा था |

वो बेचैन हो कर के भाग रहा था | कानो में उसके apple i pod से लगा हैडफ़ोन लगा हुवा था जिसपर एमिनेम के गाने बज रहे थे उसने फटाफट कई तरह के महंगे कपड़ों से भरे दो बड़े एयर बैग रोलर बेल्ट में रखी और छोटा बैग अपने साथ रख लिया जो कि लगभग खाली था|

बोर्डिंग पास लेकर के सिक्योरिटी चेक के लिए आगे बढ़ा एयरपोर्ट सुरक्षा को लेकर के बहुत चुस्त होते हैं वे ऐसे आदमियों को काम पर रखते हैं जिन्हें देखकर लगता है कि वे कभी भी आपको पकड़ सकते हैं| उसने राज के सामान हैंडबैग और यहाँ तक के उसके जेब में भी तलाशी ली |

वे राज के पास से कोई गैरकानूनी वस्तु तलाश रहे थे मगर सोचने की बात तो ये है की अगर सच में राज के पास में कोई गैर कानूनी वास्तु होती तो वो उसे देश से बाहर ले जा रहा होता तो क्या ये अमेरिका के लिए अच्छा नही है | रोस्चर स्कूल of मेडिकल टेक्नोलॉजी न्यूयॉर्क से हासिल की हुई डिग्री के साथ जुड़ी ढेर सारी यादें पीछे छोड़कर के राज india जाने वाली फ्लाइट पर सवार हुआ |

अगर उसे कुछ और देर हो जाती तो उसकी फ्लाइट छूट जाती मगर मेरा यकीन मानिए फ्लाइट के अन्दर आखरी लम्हे में दाखिल होने का एक अलग ही मजा होता है | उसके स्वागत के लिए दरवाजे पर बला की khubsoorat एयर होस्टेस खड़ी थी क्या यह फ्लाइट स्वर्ग की ओर जा रही है|

राज ने वहां खड़ी पहली लड़की को देखते ही पूछा flirt करना उसके लिए ऑक्सीजन की तरह है ऐसा क्यूँ सर क्यूंकि आप सभी स्वर्ग की अप्सराओं की तरह khubsoorat है लड़कियां गदगद हो गई| इस तरफ सर उनमे से एक ने कहा और इतने में राज की बोर्डिंग पास ली और राज को business क्लास कंपार्टमेंट में उसकी सीट तक पहुंचने में मदद की|

उसके साथ की सीट पर बैठी लड़की सिरको खिड़की पर टिका कर आराम कर रही थी सिर्फ उसके लम्बे काले और रेशमी बाल दिखाई दे रहे थे हे भगवान काश ये लड़की बहुत khubsoorat हो राज ने प्रार्थना की जब भी वो किसी लड़की को पीछे से देखता है तो उसकी khubsoorat होने की कामना करता हैं राज बेचैनी से उसके जागने और चेहरा उठाने का इंतेजार कर रहा था ताकी वो उसे देख सके |

प्लेन रनवे पर दौड़ने लगा और पायलट ने सीट बेल्ट कस लेने के संकेत दिए मैडम आप अपनी सीट बेल्ट बंधना भूल गई है हम उड़ान भरने वाले हैं राज ने उसके कंधे पर हाथ रख कर कहा आखिरकार उसे उससे बात करने का बहाना मिल गया|वो जग गयी उसने राज की तरफ देखा और थैंक्स कहा मर्दाना आवाज में उसके चेहरे पर दाढ़ी और मूंछें देखकर कि राज चौक गया कुछ 100 सेकंड के बाद राज को अहसास हुआ कि वह लड़की नहीं थी |

वह दरअसल ज्यादा लंबे रेशमी बाल वाला एक लड़का था बेचारा पश्चिमी फैशन का शिकार था | आपके बाल बहुत मूल्यवान है राज ने चिढ कर के टिप्पणी की |शुक्रिया उसने कहा और फिर सो गाया | शायद उसे टिप्पणी प्रशंषा लगी|

फ्लाइट अटेंडेंट ने बड़ी ही भयानक तरीके से समझाया कि इमरजेंसी के दौरान पैराशूट का इस्तेमाल कैसे करें और कैसे पानी में डूबने से बचा जाए मेरी समझ में ये नही आता की इमरजेंसी में यात्रियों को तैयार करने के बजाये वे बेहतर पायलट क्यूँ नही रख लेते |

विमान ने उड़ान भरी और यात्रियों की सेवा के लिए khubsoorat एयर होस्टेस की टीम आ गई लंबी ऊंची आकर्षक और सुंदर थी कि ये राज के लिए फैशन टीवी देखने जैसा था airhostes हमेशा सुंदर कैसे होती है क्या यह सिर्फ एक इत्तेफाक है|

मै सोचता हूँ की है उन्हें नौकरी किस पैमाने पर दी जाती होगी तुम सुन्दर हो बधाई हो तुम्हारी नौकरी पक्की उनके मुस्कुराते हुवे चेहरे को देख कर लगता है के वे सभी यात्रियों को प्यार करती होंगी | फ्लाइट अटेंडेंट और receptionist ही असल में धरती पर सुंदर लड़कियों की ऐसी प्रजातियां है जो आपके मुस्कुराने पर अच्छे प्रतिक्रिया देती है|

सर क्या आपको किसकी चीज की जरूरत है एयर होस्टेस ने राज के बगल में सो रहे लंबे-लंबे बालों वाले लड़के को जगाने की कोशिश करते हुए कहा था उसे शायद बाल कटवाने की जरूरत है राज ने सोचा |वो आदमी नही उठा और उसने उसे छोड़ दिया और राज के सामने कई तरह के drinks से भरी tray रखी |राज उसकी आंखों में खो गया|

और आपको क्या पसंद है सर तुम तनया राज ने नाम उसकी ड्रेस पर लगे बैज से पढ़ा|जी सर उसे कुछ समझ में नही आया|” निगाहों से अपनी तानया यूँ दिल पर नश्तर ना चलाओ बहकने लगा है ये अब इसे थोड़ी रेड वाइन पिलाओ तुम” राज ने शरारती लहजे में कहा और एक मुस्कान दी|

जरूर सर उसने ऐसी प्रतिक्रिया दी जैसे कुछ हुआ ही नहीं| अगर राज की नीली आंखों में जादू ना होता तो वह जरूर नाराज हो जाती एक तरह से यह इश्क का नियम है अगर कोई ठीक-ठाक दिखने वाला लड़का किसी खूबसूरत लड़की पर नजरें गड़ाए तो यह गुनाह माना जाता है लेकिन एक नीली आंखों वाले khubsoorat लड़के को आंखे लड़ाने की आजादी होती है|

यह तुम ठीक नहीं कर रही हो राज ने बातचीत को जारी रखते हुए कहा| क्या सर उसने वाइन का एक ग्लास देते हुवे पूछा राज ने एक घूंट लिया और और कहा तुम्हे इसतरह अपने बाल नही बांधने चाहिए ये मानवाधिकार का उल्लंघन है ये उलंघन कैसे हुवा उसने मुस्कराते हुवे पूछा |

उसे भी मज़ा आ रहा था तुम्हारे बालो को आजाद रहने का और अपनी जिंदगी जीने का मौलिक अधिकार है और मुझे तुम्हें खुले बालों में और ज्यादा khubsoorat देखने का अधिकार है वो शर्मा गयी कुछ बोली नही इस बीच प्लेन ने खराब मौसम की वजह से कुछ झटके महसूस किए अरे आपने तो इस फ्लाइट को भी झटका दे दिया | उसने आंख मारी और दूसरे यात्रियों की और पढ़ गयी |

राज एक छोटा सा hand बैग ले जा रहा था जो की उसके सीट के ऊपर वाले लगेज कंपार्टमेंट में रखा हुआ था रात में जब सभी यात्री सो रहे थे उसने अपने सर के ऊपर लगी रीडिंग लाइट जलाई और अपने बैग से एक khubsoorat मगर पुरानी डायरी निकाली ये कोई आम डायरी नहीं थी थोड़ी पुरानी मगर बहुत ही सुंदर डायरी थी उसने डायरी खोली और लिखना शुरू किया.

माँ एक अच्छी खबर है आखिरकार आपका बेटा एक डॉक्टर बन गया कल ही मुझे मेडिकल की डिग्री मिली है और आज मैं लंबे समय के बाद भारत लौट रहा हूं आप यही चाहती थी ना अब मैं पापा के साथ रहूंगा मैं कभी भी भारत में नहीं रहना चाहता था क्योंकि वहाँ आपकी और भी ज्यादा याद आती है लेकिन मैंने अपनी पढ़ाई अब पूरी कर ली है और मेरे पास भारत में ना रहने का अब कोई बहाना नहीं बचा है मुझे पापा का साथ भी देना है Newyork से पढना बहुत ही मुश्किल था लेकिन आप मुझे जानती है जब मै कुछ करना चाहता हूं तो कर ही लेता हूं ठीक है माँ शुभ रात्रि मैं तुम्हें बहुत याद करता हूं अलविदा |

ड्राईवर से कहो गाड़ी निकालने के लिए हम हवाई अड्डा जायेंगे मेहता साहेब ने भावेश को बड़ी मुशकिल से कहा|उनके मुंह की चोट अभी ठीक नही हुवी थी वे कुछ जरूरी बातें ही बोला करते थे मेहता साहेब छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा टर्मिनल टू के बाहर खड़े थे |

जब us की प्लेन 5446 उतरी | ऐरोप्लाने की सभी खुबसूरत बालाओं से अलविदा लेकर राज ने प्लेन से बाहर कदम रखा |वो बाहर आते ही अपने पापा के गले लग गाया नमस्ते पापा कैसे है आप|

ठीक ! मेहता साहेब ने काफी देर राज को जी भर के देखने के बाद कहा| राज 5 साल के बाद उससे मिलने आ रहा था | पटेल साहब का मुंह काट गाया है इसीलिए वो ज्यादा कुछ बोल नही पा रहे है ये बस एक छोटा सा हादसा था भावेश ने स्पष्ट किया और मेरा सामान लेकर गाड़ी में रखा |
Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.